बुलिश एंगल्फिंग पैटर्न ऐसा रिवर्सल पैटर्न है जो 2 दिनों में होता है। आप देख सकते हैं कि इसमें  विपरीत रंगों की दो अलग-अलग रियल बॉडीज़ होती हैं;जहां दूसरे दिन की रियल बॉडी, पहले दिन की रियल बॉडी को निगल जाती है।

आप एक बुलिश एंगल्फिंग पैटर्न को कैसे पहचान सकते हैं?
बोहोत आसान है, इसके लिए आपको सिर्फ:

  1. देखेँ क्या एक डाउन ट्रेंड चल रहा है?
  2. फिर, पहले दिन की कैन्डल देखें, यह ब्लैक होना चाहिए!
  3. इसके बाद, दूसरे दिन की कैन्डल देखें। दूसरे दिन की ओपनिंग और पहले दिन के क्लोज़ में गैप होती है, बॉटम पर जितनी लंबी स्पेस होगी, उतनी ही ज़्यादा गैप होगी और उतने ही मजबूत रिवर्सल   का संकेत मिलत है। आप वास्तव में देखेंगे कि दूसरे दिन की बॉडी पूरी तरह पहले दिन की बॉडी को निगल जाती है।
  4. दूसरे दिन कि रियल बॉडी का रंग हरा होन चाहिए।

मार्केट में क्या हो रहा है? यह पैटर्न कैसे बनता है?

अगर कभी बुलिश पैटर्न्स का सबसे ज़्यादा बुलिश रिवर्सल हुआ है तो उनमें से बुलिश एंगल्फिंग एक है। यह इसलिए बंता है क्योंकि, दूसरे दिन, बुल्स द्वारा किया गया काउंटर अटैक बियर्स द्वारा पहले दिन नीचे की ओर लगाया गया प्रेशर को कैंसल कर देता है। बुल्स पहले दिन के ओपन के ऊपर क्लोज़ बना कर ऐसा करते हैं।

बुलिश एंगल्फिंग पैटर्न के मामले में क्या एक्शन लेना चाहिए?

  • बाय सिग्नल। आक्रामक ट्रेडर के लिए किसी कनफारमेशन की ज़रूरत नहीं है।
  • कंजरवेटिव ट्रेडर्स के लिए बुलिश कनफारमेशन का सुझाव दिया जाता है।

बाय सिगनल की पुष्टि कैसे करें?

  • सुनिश्चित करें की तीसरी कैन्डल, कैन्डल 1 के सबसे ज़्यादा हाई के ऊपर क्लोज़ हुआ होऔर
  • कैन्डल 1 और 2 के सबसे नीचे के नीचे पर सेल स्टॉप लगाएँ।
  • यह सिग्नल मार्केट में निरंतर गिरावट के बाद सबसे अच्छा काम करता है और कीमतों के एक संभव रिवर्सल का संकेत देता है।