परिचय
एमएसीडी (मूविंग एवरेज कन्वर्जेंस / डाइवर्जेंस इंडिकेटर) और एडीएक्स(एवरेज डायरेक्शनल इंडेक्स) दो सबसे बड़े तकनीकी संकेतक हैं। मुझे यकीन है कि आप में से अधिकांश ने कभी ना कभी उनका उपयोग किया होगा। उन्हें ठीक से एक साथ मिलाएं और आप एक बढ़िया ट्रेडिंग सिस्टम बना सकते हैं।पढ़ते रहें और नीचे दिए गए परिणामों से सीखें।

एमएसीडी
एमएसीडी दो एक्स्पोनेंशियल मूविंग एवरेजेस के अंतर का उपयोग ट्रेंड की दिशा और इसका मोमेंटम बताने के लिए करता है। एमएसीडी के ईएमए (सिग्नल लाइन)के साथ उपयोग करना हमें एक भरोसेमंद संकेतक देता है। आप इसके उपयोग और निर्माण के बारे में एमएसीडी का डे-ट्रेडिंग में उपयोग कैसे करें? से जान सकते हैं।

एडीएक्स
एडीएक्स इंडिकेटर का मुख्य उपयोग बिना दिशा के संदर्भ के ट्रेंड की शक्ति को मापना है। यदि इंडिकेटर 25 लाइन से ऊपर पहुंचता है तो ट्रेंड को मजबूत माना जाता है। इसके विपरीत, यदि इंडिकेटर 25 लाइन से नीचे है, तो ट्रेंड कमजोर है या मार्केट में ट्रेंड नहीं है। 30 से अधिक एडीएक्स इंडिकेटर मजबूत प्रवृत्ति को प्रदर्शित करता है - यह निश्चित रूप से ट्रेड में आने का सबसे अच्छा समय है।

कभी-कभी ट्रेडर्स इस इंडिकेटर की तीनों लाइनों का उपयोग करते हैं- एडीएक्स,+डीआई, -डीआई। वे इन लाइनों के क्रॉस को एक संभावित रिवर्सल के अतिरिक्त संकेत के रूप में देखते हैं। और हम एडीएक्स की इसी विशेषता का उपयोग हमारी स्ट्रैटेजी में करेंगे।

एमएसीडी एडीएक्स का क़ॉंबिनेशन
एमएसीडी ट्रेंड रिवर्सल का पता लगाता है जबकि, एडीएक्स यह बताता है कि ट्रेंड मजबूत है या फीका। बढ़िया कॉम्बो लगता है। तो इन दोनों इंडिकेटर्स से सबसे बढ़िया परिणाम पाने के लिए इन दोनों इंडिकेटर्स की आदर्श सेटिंग्स क्या होंगी?

हमने कई क़ॉंम्बिनेशंस में एमएसीडी और एडीएक्स को आज़माया और उन्हें अलग-अलग मार्केट्स और पैरामीटर्स पर बाइकटेस्ट करके सीखा। चलिए देखते हैं ये दोनों इंडिकेटर्स एक साथ कैसे काम करते हैं

ट्रेड सेट अप

टाइम फ्रेम: 15  मिनट या उससे ज़्यादा

इंडिकेटर सेटिंग्स: एमएसीडी (डिफ़ॉल्ट सेटिंग्स: 12, 26, 9), एडीएक्स (डिफ़ॉल्ट:14)।

स्टॉप लॉस / टेक प्रॉफिट: स्टॉप लॉस/टार्गेट प्राइस को निकटतम स्विंग के उच्च/निम्न पर सेट करें।

  बाई प्रवेश नियम

· एमएसीडी ज़ीरो से ऊपर बढ़ता है।

· कंफर्म करें कि एडीएक्स इंडिकेटर की डी+ सिग्नल लाइन डी- लाइन से अधिक है।

· एडीएक्स लाइन 20 से ऊपर है और ऊपर की ओर उठ रही है।

· कैन्डलस्टिक पर जहां ये 3 स्थितियाँ मिलें, खरीद ले।

  सैल प्रवेश नियम

· एमएसीडी ज़ीरो लाइन के नीचे है।

· सिग्नल को कंफार्म करने के लिए कि एडीएक्स इंडिकेटर की डी- लाइन डी+लाइन से ऊंची है।

· एडीएक्स लाइन 20 से ऊपर है और ऊपर की ओर उठ रही है।

· कैन्डलस्टिक पर जहां ये 3 स्थितियाँ मिलें, शॉर्ट ट्रेड खोलें।

आप स्ट्रैटेजी को कैसे समायोजित कर सकते हैं?

· एडीएक्स इंडिकेटर को पढ़ने के कई तरीके हैं जैसे कि यदि एडीएक्स 20 के स्तर को पार करता है तो ट्रेंड मजबूत हो रहा है, यदि एडीएक्स 30 के ऊपर है- तो ट्रेंड और मजबूत हो गया है।

· आक्रामक व्यापारी एडीएक्स के 20 की लाइन के नीचे होने पर ट्रेड में उतार सकते हैं ताकि उन्हें बढ़ते ट्रेंड को पकड़ने की संभावना रहे और वे इसकी शुरुआत से ना चूकें। मूल विचार यह है कि जितना विकसित ट्रेंड है उतना ही रिवर्सल की संभावना।

· व्यापारियों को देखना चाहिए कि 20 कि लाइन क्रॉस करना उतना महत्वपूर्ण नहीं जितना उसका स्लोप और दिशा है। इसलिए,यह एक विशुद्ध रूप से सिस्टम ट्रेड नहीं है,लेकिन कुछ अवलोकन और विवेक ज़रूर प्रदान करता है।

· आपको इंडिकेटर्स को पढ़ने और अपनी व्यापारिक आवश्यकताओं के अनुसार उन्हें एडजस्ट करने के लिए अपना खुद का तरीका प्रयोग करके खोजना होगा। इसका सबसे अच्छा तरीका है-इनमें से किसी भी सेटिंग को बैक टेस्ट करना और वह चुनना जो आपके लिए सबसे अच्छा हो।

· टेक प्रॉफ़िट और स्टॉप लॉस। हम हर ट्रेड में कम से कम 1:2 के जोखिम से रिवर्ड रेशो का उल्लेख करते हैं। यहाँ भी वही सही है। पैसों का प्रबंधन ट्रेडिंग के केंद्र में होता है और हम इसपर भविष्य में और अधिक डिटेल्स में चर्चा करेंगे।