स्टोक़ैस्टिक आरएसआई या स्टोक आरएसआई एक मोमेंटम ओसिलेटर है जो उपयोगकर्ता द्वारा सेट कि गई समयावधि में इसकी हाई लो रेंज के सापेक्ष आरएसआई (रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स) का स्तर मापता है।

यह इंडिकेटर अपनी वैल्यू तक पहुँचने के लिए आरएसआई वैल्यू पर स्टोक़ैस्टिक ओसिलेटर फोर्मूला लगाता है, यह गणना खुद प्राइज़ की जगह प्राइज़ के इंडिकेटर पर आधारित है, इसे प्राइज़ का दूसरा डेरिवेटिव या इंडिकेटर का इंडिकेटर कहा जाता है। इसका अर्थ यह है कि स्टोक आरएसआई बनने के लिए प्राइज़ दो बदलावों से गुज़री है। प्राइज़ को आरएसआई में कन्वर्ट करना एक बदलाव है। आरएसआई को स्टोक़ैस्टिक ओसिलेटर में बदलना दूसरा बदलाव है।

परिणामित इंडिकेटर आरएसआई की तरह ही 0 और 100 के बीच झूलती है। पहले वैल्यू 0 और 1 के बीच थी लेकिन अधिकतर आधुनिक  तक्निकी विश्लेषण इसे स्पष्टीकरण की सुविधा के लिए इसे 0 और 100 में कन्वर्ट करते हैं।

यह इंडिकेटर तुषार चंदे और स्टेनली क्रॉल ने बनाया था और 1994 में इसे अपनी पुस्तक “द न्यू टेक्निकल ट्रेडर” में इसका परिचय दिया। चंदे और क्रॉल ने समझाया कि बिना छोर तक पहुंचे, आरएसआई की लंबे समय तक 80 और 20 के बीच झूलने की प्रकृति होती है।इसीलिए आरएसआई में ओवर बॉट और ओवर सोल्ड आरएसआई रीडिंग के आधार पर किसी स्टॉक में प्रवेश करने की इच्छा रखनेवाले ट्रेडर्स बिना किसी ट्रेड सिग्नल के खुद को साइड लाइंस में पा सकते हैं। दूसरी तरफ स्टोक आरएसआई, आरएसआई की संवेदनशीलता बढ़ा कर अधिक ओवर बॉट/ओवर सोल्ड सिगनल्स उत्पन्न करता है।

स्टोकैस्टिक आर.एस.आई. के चार परिवर्ती कारक हैं :-

1.   आर.एस.आई. अवधि : स्टोकैस्टिक गणना में उपयोग की जाने वाली आर.एस.आई. अवधियों की संख्या। (डिफ़ॉल्ट : 14)

2.   स्टोकैस्टिक अवधि : यह स्टोकैस्टिक गणना में उपयोग किए जाने वाले समय की संख्या है। (डिफ़ॉल्ट : 14)

3.   %K अवधि : यह मान एक सरल गतिशील औसत के साथ स्टोकैस्टिक अवधि को निर्बाध बनाता है। एक (1) का मान स्टोकैस्टिक अवधि को बनाए रखता है। (डिफ़ॉल्ट : 3)

4.   %D अवधि : %K का एक गतिशील औसत (डिफ़ॉल्ट : 3)

इंटरप्रिटेशन

स्टोक आरएसआई में अधिकतर बाउंड मोमेंटम ऑसिलेटर के गुण होते हैं।

पहला, इसका उपयोग ओवर बॉट और ओवर सोल्ड स्थितियों की पहचान करने में होता है। 80 से ऊपर की चाल को ओवर बॉट माना जाता है और 20 से नीचे की चाल को ओवर सोल्ड। जब बड़ा ट्रेंड ऊपर हो तब ओवर सोल्ड स्थिति को देखना महत्वपूर्ण होता है है और जब बड़ा ट्रेंड नीचे हो तो ओवर सोल्ड स्थिति को देखना। दूसरे शब्दों में, बड़े ट्रेंड की दिशा में ट्रेंड्स देखें क्योंकि, स्टोक़ैस्टिक आरएसआई एक शॉर्ट टर्म इंडिकेटर है।

दूसरा, इसका उपयोग शॉर्ट टर्म ट्रेंड्स की पहचान करने के लिए किया जाता है। एक बाउंड ओसिलेटर के रूप मे मध्य रेखा 50 पर है। स्टोक आरएसआई जब लगातार 50 से ऊपर होता है तो अप ट्रेंड दर्शाता है और जब लगातार 50 से नीचे होता है तो डाउन ट्रेंड।

ट्रेंड्स और रिवर्सल्स का सिग्नल देनेवाले एक प्रमुख इंडिकेटर के रूप में आप इस ओसिलेटर के साथ क़ॉन्वर्जेंसेस और डाइवर्जेंसेस भी देख सकते हैं।

केस स्टडी

कोई भी रिलायंस के डेली चार्ट का अध्ययन यह देखने के लिए कर सकता है कि कैसे बढ़िया ट्रेडिंग के अवसर देने के बाद यह स्टोक़ैस्टिक ओसिलेटर कैसे ओवर बॉट और ओवर सोल्ड स्थितियों से बचाता है।

कंक्लूजन

स्टोक आरएसआई स्टीरॉइड्स पर आरएसआई की तरह है। आरएसआई अपेक्षाकृत कम सिग्नल उत्पन्न करता है और स्टोक आरएसआई नाटकीय रूप से सिगनल्स की संख्या बढ़ाता है। यहाँ ज़्यादा ओवर बॉट/ओवर सोल्ड रीडिंग्स, ज़्यादा मध्य रेखा कटाव,ज़्यादा अच्छे सिग्नल और ज़्यादा बुरे सिगनल्स होंगे। स्पीड की कीमत होती है। इसका मतलब यह है कि पुष्टि के लिए तकनीकी विश्लेषण के अन्य पहलुओं के साथ स्टोक आरएसआई का उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

ऊपर दिए गए उदाहरण गैप, सपोर्ट/रेजिस्टेंस ब्रेकेएस और प्राइज़ पैटर्न का उपयोग करके स्टोक आरएसआई सिगनल्स की पुष्टि करते हैं। चार्टिस्ट ऑन बैलेंस वॉल्यूम (ओबीवी) या अक्युमुलेशन डिस्ट्रीब्यूशन लाइन जैसेपूरक इंडिकेटर्स का भी उपयोग कर सकते हैं। ये वॉल्यूम- आधारित इंडिकेटर्स, मोमेंटम ऑसिलेटर्स के साथ ओवरलैप नहीं होते हैं। चार्टिस्ट को विभिन्न सेटिंग्स के साथ प्रयोग करना चाहिए और वास्तविक दुनिया में उपयोग करने से पहले स्टोक आरएसआई की बारीकियों को सीखना चाहिए।