रेन्को चार्ट्स का आविष्कार सैकड़ों वर्षों पहले जापानी ट्रेडर्स ने किया था। इनका नाम जापानी शब्द रेन्गा पर रखा गया है जिसका अर्थ ब्रिक (ईंट) होता है। रेन्को चार्ट्स प्राइज़ के बदलाव तो दिखाते हैं लेकिन टाइम और वॉल्यूम को अनदेखा करते हैं।

बार या कैन्डलस्टिक चार्ट्स से रेन्को अलग कैसे हैं?

बार या कैन्डलस्टिक चार्ट्स में प्राइज़ और टाइम 2 डायमेंशंस होते हैं। प्राइज़ वाई-एक्सिस पर प्लॉट की जाती है और टाइम एक्स-एक्सिस पर। चार्ट टाइम की इकाई के गुजरने के साथ चलता है और जैसा कि आप फिगर-1 में देख सकते हैं, उस टाइम की प्राइज़ वहाँ प्लॉट की जाती है।

रेन्को चार्ट्स टाइम को अनदेखा करते हैं। वे प्राइज़ के बदलाव को तब दिखाते हैं जब वह यूजर के लिए महत्वपूर्ण होता है। चार्ट यूजर प्राइज़ में उस बदलाव को डिफ़ाइन कर सकता है जिसे वह महत्वपूर्ण मानता है।

वे कैसे उपयोगी हैं?

  • ये देखने में आकर्षक होते हैं जिससे नॉइस को फिल्टर करना और ट्रेंड्स को अलग करना आसान हो जाता है।
  • ये समानता दिखाते हैं और ट्रेंड्स और सपोर्ट और रेजिस्टेंस एरियास का पता लगाने में प्रभावी हैं।
  • रेन्को चार्ट्स ट्रेंड-रिवर्सल पैटर्न्स का सिग्नल देने में भी कुशल हैं।
  • ट्रेडर अन्य ट्रेंड फॉलोइंग तकनीकों कि तुलना में अधिक समय तक ट्रेड में रहते हैं।

क्या यह एक ट्रेडर के लिए फैसला लेने के प्रोसेस को आसान बनाते हैं?

जैसा कि आप नीचे दी हुई इमेजेस में देख सकते हैं, फिगर-2 में निफ्टी के 1- मिनट के विशिष्ट कैन्डल स्टिक चार्ट में 315 बार हैं। फिगर-3 में एक 5-मिनट के चार्ट में 63 बार हैं। इसी तरह, 10 पॉइंट मूव (इस पर मैं विस्तार से चर्चा करूंगा) के एक विशिष्ट दिन के रेन्को चार्ट में 15-20 रेन्को बॉक्स होते हैं।

मैंने फिगर 4 और 5 में, 1 मिनट और 5 मिनट टाइम फ्रेम के 2 रेन्को चार्ट दिखाए हैं जहां ब्रिक साइज़ 10 पॉइंट परिभाषित की गई है। दोनों चार्ट्स में मामूली अंतर के साथ समान बॉक्सेस हैं जो हमें दिखाते हैं कि रेन्को चार्ट्स में टाइम की न्यूनतम भूमिका है।

कम बॉक्सेस उन वेरिएबल्स को कम करते हैं जिन्हें आपको अपने ट्रेडिंग डे में ट्रेडिंग के फैसले लेने में ध्यान रखना होता है।

रेन्को ब्रिक्स और ट्रेंड्स

रेन्को चार्ट्स लाल या हरे ब्रिक्स या बॉक्सेस से बने होते हैं जो ट्रेंड की दिशा में चलते हैं। सामान्यत, एक ट्रेंड रिवर्सल बॉक्स (लाल से हरी या हरी से लाल) दिखाना शुरू करता है और उसी दिशा में एक या अधिक ब्रिक्स तक जारी रहता है। एक बार रेन्को बॉक्स बनने के बाद यह अगली ब्रिक बनने तक अपनी दिशा नहीं बदलता।

यदि आप एक ही पीरियड के बार चार्ट्स या कैन्डल स्टिक चार्ट्स जैसे पारंपरिक चार्ट्स देखें तो आप उन्हें कई विभिन्न ट्रेंड उत्पन्न करते हुए देखेंगे। लेकिन, रेन्को चार्ट एक रिवर्सल बॉक्स के आने तक एक ही ट्रेंड में रहता है।

रेन्को बॉक्स फोर्मेशन

यदि आप निफ्टी फ्यूचर्स के 100 ब्रिक साइज़ के डेली रेन्को चार्ट को देखें, और यदि अगले दिन, निफ्टी 220 पॉइंट्स ऊपर बंद होता है तो आप ऊपर की दिशा में (हरी) 2 ब्रिक्स (हर ब्रिक 100 पॉइंट्स की) देखेंगे। इसी तरह एक डाउन ट्रेंड में, यदि निफ्टी फ्यूचर्स अगले दिन 120 पॉइंट नीचे बंद होता है तो डाउन साइड पर एक अकेली 100 पॉइंट की लाल ब्रिक दिखेगी।

रेन्को बॉक्सेस कभी एक-दूसरे के आसपास नहीं बनाए जाते। जैसा फिगर 6 में दिखाया गया है, वे हमेशा पहले वाले से 45-डिग्री के एंगल पर बनाए जाते हैं। बॉक्स का साइज़ कभी नहीं बदलता है और ना ही यह बनने के बाद कभी हटता है।

रेन्को बॉक्स साइज़

बॉक्स का साइज़ नए ट्रेंड के उत्पन्न होने को निर्धारित करता है। बॉक्स के छोटे साइज़ का अर्थ और बॉक्सेस और अधिक पतले आरे(व्हिप सॉ)। बॉक्स के बड़े साइज़ का अर्थ होगा प्राइज़ में धीमी गतिविधि और ज़्यादा देरी से एंट्री।आप इसे फिगर 7 और 8 में पिछले 1 महीने के निफ्टी फ्यूचर्स के

प्रति घंटे के चार्ट्स,जो क्रमशः ब्रिक साइज़ 25 और 75 का उपयोग करते हैं,में देख सकते हैं।

रेन्को चार्ट्स में बॉक्स का आकार निर्धारित करना विज्ञान की तुलना में एक कला ज़्यादा है। सबसे बढ़िया बॉक्स आकार निर्धारित करने के लिए कई अध्ययन किए गए लेकिन अधिकतर विशिष्ट सिक्योरिटीज और उनकी वोलैटिलिटी रेंज के लिए विशेष होते हैं।

एक थंब रूल के रूप में, डेली चार्ट्स पर 1% का न्यूनतम आकार लागू किया जा सकता है। इंट्राडे चार्ट्स पर कुछ ट्रेडर्स वोलैटिलिटी के आधार पर तय छोटे साइज़ के बॉक्स का उपयोग करना पसंद करते हैं।कुछ अध्ययन यह देखने के लिए किए गए हैं कि क्या एवरेज ट्रू रेंज (एटीआर) बॉक्स साइज़ के निर्धारण के लिए उपयोग की जा सकती है; जबकि, अन्य इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ओपनिंग रेंज के एक हिस्से को बताते हैं। बॉक्स के आकार को टाइम फ्रेम के अनुसार भी बदला जा सकता है।

आपको बॉक्स के अलग-अलग आकारों के साथ प्रयोग करके ऐसे बॉक्स आकार को ढूँढने की ज़रूरत होगी जो आपके ट्रेडिंग टाइम फ्रेम और इंडिकेटर के साथ फिट हो। उदाहरण के लिए यदि आप ऐसा स्टॉक ट्रेड कर रहे हैं जिसकी वैल्यू रु.500 और रु.1000 के बीच है और आप एक 5-मिनट चार्ट का उपयोग कर रहे हैं तो आप रु.5 का बॉक्स साइज़ चुन सकते हैं। ज़्यादा प्राइज़ वाले स्टॉक के लिए आप रु.10 या रु. 20 के बॉक्स आकार का उपयोग करना चाह सकते हैं।

अपने अनुभव से मैंने पाया है कि इंट्राडे रेन्को चार्ट्स दिन के अंत के वर्जन से ज़्यादा प्रभावशाली होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि, दिन के अंत के रेन्को चार्ट्स में अगले बॉक्स को बनने में दिन या हफ्ते भी लग सकते हैं।

जैसा नीचे फिगर 9 में दिखाया गया है, आप मार्केट पल्स एप पर अपने चार्ट्स के साथ प्रयोग करके तय ब्रिक साइज़ या एटीआर के आधार पर ब्रिक साइज़ सेट कर सकते हैं।

आगे हम इंडिकेटर्स का उपयोग करके ट्रेडिंग पैटर्न्स का विस्तृत अध्ययन, कुछ नियमों और चेतावनियों के साथ देखेंगे जो रेन्को ट्रेडिंग में महारत हासिल करने के लिए आवश्यक है।

शुभकामनाएँ!