इस आर्टिकल में मैं बॉलिंगर बैंड्स और रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स( आर एस आई) नाम के दो बेहतर तकनीकी इंडिकेटर्स लूँगा और एक ट्रेडिंग सिस्टम बनाने में शामिल स्टेप्स बताऊंगा।

यदि आपने अभी-अभी  हमारा  कोर्स ब्लॉग पढ़ना शुरू किया है तो आपको अपने इंडिकेटर्स कैसे चुनना है यह समझने के लिए हमारे इंट्रोडक्टरी आर्टिकल  देखने की सलाह दूंगा। हमारे दूसरे आर्टिकल में, हमने पीएसएआर और स्टोक़ैस्टिक इंडिकेटर्स का उपयोग कर अपनी पहली स्ट्रेटजी भी बनाई है.

शुरू करने से पहले चलिए उन इंडिकेटर्स को अच्छे से जान लेते हैं जिन्हें हमने अपने सिस्टम के लिए चुना है।

बॉलिंगर बैंड्स
बॉलिंगर बैंड्स  के निर्माता  जॉन बॉलिंगर, बॉलिंगर बैंड्स को एक तकनीकी विश्लेषण उपकरण जो एक प्रकार का ट्रेडिंग बैंड या लिफाफा है के रूप में परिभाषित करते हैं।

बॉलिंगर बैंड्स वो वोलैटिलिटी  बैंड्स होते हैं जो स्टैंडर्ड डीविएशन नामक सेंट्रल टेंडेंसी  के मेजर के ऊपर और नीचे  एक स्टैटिसटिकल मेजर का उपयोग कर प्लॉट किए जाते हैं। इनमें तीन बैन्ड्स होते हैं जो 20 की डिफॉल्ट वैल्यू वाले एक सिंपल मूविंग एवरेज(एसएमए) के इर्द-गिर्द घूमते हैं जिस में देखा गया है कि 85% समय प्राइस दोनों सीमाओं के बीच होती है:

  • लोअर बैंड- एसएमए    ( - 2  स्टैंडर्ड    देविएशन)
  • अपर बैंड- एसएमए     ( + 2  स्टैंडर्ड  देविएशन)

जैसे-जैसे प्राइस रेंज बढ़ती जाती है स्टैंडर्ड डीविएशन बढ़ता है और  सकरी प्राइस रेंज में घटता है। इसीलिए बैंड्स-

·    वोलैटिलिटी( अस्थिरता) बढ़ने पर  चौड़े होते हैं और

·    वोलैटिलिटी( अस्थिरता) घटने पर सिकुड़ जाते हैं,जैसा कि नीचे दिए गए उदाहरण में दिखाया गया है।

 बॉलिंगर बैंड्स  बहुत उपयोगी  जानकारी देते हैं जैसे:
· ट्रेंड जारी रहेगा या पलटेगा
· बाजार के जमाव की अवधि
· आने  वाली बड़ी अस्थिरता  की अवधि
· बाजार के संभावित  टॉप्स या बॉटम्स और संभावित प्राइस टारगेट

ट्रेडिंग  बैंड्स  का उपयोग करते समय हमें बैंड के किनारे पर हो रहे  प्राइस एक्शन में रुचि लेनी चाहिए। एक ट्रेडर के लिए  बाहरी बैंड्स  के पास ट्रेडिंग करना एक विश्वास देता है कि वहां विरोध या समर्थन है हालांकि अकेले इससे खरीदने या बेचने के सिग्नल नहीं मिलते हैं; इससे केवल यह पता चलता है कि एक तुलनात्मक आधार पर कीमतें ज्यादा है या कम। इसके साथ ही जब प्राइस बॉलिंगर बैंड्स के बाहर बंद होती है तब स्टॉप लॉस का भी ध्यान रखना चाहिए ( यह बहुत सारे सफल वोलैटिलिटी ब्रेकआउट सिस्टम्स  का आधार रहा है)।

इस जानकारी के साथ एक ट्रेडर एक बिक्री या खरीद ट्रेड मेंउतर कर इन इंडिकेटर्स का उपयोग उनके प्राइस जैकसन की पुष्टि में कर सकता है। चलिए अब रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स ( आर एस आई), एक मोमेंटम इंडिकेटर जो बॉलिंगर बैंड्स के साथ प्रभावी रूप से कंबाइन किए जा सकते हैं, के बारे में थोड़ा और समझते हैं।

रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स ( आर एस आई)
रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स ( आर एस आई) एक अग्रणी मोमेंटम इंडिकेटर है जो एक समयावधि में किसी सिक्योरिटी के ऊपर की तुलना में नीचे बंद होने के दिनों की संख्या की तुलना करता है

आरएसआई इंडिकेटर के लिए सूत्र दो समीकरण लेता है जो सूत्र को हल करने में शामिल होते हैं। पहला घटक समीकरण प्रारंभिक रिलेटिव स्ट्रेंथ( आर एस)  वैल्यू प्राप्त करता है, जो एन समय मेंऔसत ' ऊपर बंद' का औसत 'नीचे बंद' का अनुपात है, जो निम्न सूत्र में दर्शाया गया है:

  • आर एस =  एन दिनों के ऊपरी बंद का औसत / एन दिनों के नीचे बंद का औसत

आर एस आई की असल वैल्यू की गणना निम्न  फॉर्मूला का उपयोग करके इंडिकेटर को  100   तक इंडेक्स करके की जाती है:

  • आर एस आई =100 -(100/1+ आर  एस)

इसके बाद इन वैल्यूज़ को 0  से 100 की रेंज पर प्लॉट किया जाता है। यदि आर एस आई 30  से कम है तो इसका मतलब है कि मार्केट ओवरसोल्ड है और कीमत बढ़ सकती है। इसके विपरीत यदि आर एस आई 70 से ज्यादा है तो अर्थ है कि ओवरबॉट है और कीमत घट सकती है। 50 का लेवल वह मिडलाइन है  जो  बुल्स और बीयर्स को अलग करती है।  अप्ट्रेंड में  आर एस आई  सामान्यतः 50 के ऊपर होता है जबकि डाउन ट्रेंड मेंयह 50 से नीचे होता है।

कॉम्बिनेशन ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी
मैंने यह कॉम्बिनेशन इसलिए चुना  ताकि आप यह निर्धारित कर सकते हैं कि कीमतें कब बॉलिंगर बैंड से उलटेंगी  और आरएसआई के साथ सभी बैंड को ओवरबॉट या ओवरसोल्ड स्थितियों से बाहर निकलने की संभावना है।

यह साधारण स्ट्रेटजी केवल तभी सक्रिय होती है जब आर एस आई और बॉलिंगर बैंड  दोनों  इंडिकेटर्स एक साथ  या तो  ओवरबॉट या ओवरसोल्ड  स्तिथि से उभर रहे हो।

बेशक, यह कीमतें हमेशा नहीं रहेगी, तो आपको सुरक्षा के लिए रोक का उपयोग करना होगा। इसके अलावा,अपनी पूंजी का केवल एक ही हिस्सा किसी एक स्थिति के लिए आवंटित करें।  पैसों के साधारण प्रबंधकीय स्ट्रेटजी हमेशा ध्यान में रखें।

1-लॉंग एंट्री  
सभी स्थितियों के पूरा होने पर ही लोंग एंट्री की जानी चाहिए:

डेली चार्ट
1-पिछला दिन निम्न बीबी के नीचे बंद हुआ हो।
2-वर्तमान दिन निम्न बीबी के ऊपर बंद हुआ हो।
3-पिछला आर एस आई 30 के नीचे बंद हुआ हो।
4-वर्तमान आर एस आई 30 के ऊपर बंद हुआ हो।

स्टॉप लॉस
पिछले दिन या वर्तमान दिन का निम्न जो भी कम हो।

टारगेट
स्टॉप लॉसेस को पीछे छोड़ कर और ट्रेंड के साथ चलना यहां एक प्रभावी स्ट्रेटजी है। यदि बेचने का सिग्नल उत्पन्न होता है तो बाहर निकल जाना चाहिए।

2. शॉर्ट एंट्री
सभी शर्तें पूरी होने पर शॉर्ट एंट्री की जानी चाहिए:

डेली चार्ट
1. पिछला दिन ऊंचे बीबी से ऊपर बंद हुआ हो।
2.  वर्तमान दिन निचले बी बी से नीचे बंद हुआ हो।
3. पिछला  आर एस आई  70 से ऊपर बंद हुआ हो।
4. वर्तमान आर एस आई 70 से नीचे बंद हो।

स्टॉप लॉस
पिछले दिन या वर्तमान दिन का  हाई जो भी ऊंचा हो।

टारगेट
स्टॉप लॉस को पीछे छोड़ना और ट्रेंड के साथ चलना या खरीद का संकेत उत्पन्न होने पर बाहर निकलना।

अलर्ट सेट करना - बाई करने की रणनीति

अलर्ट सेट करना - सैल करने की रणनीति

यदि कोई यह सुनिश्चित करना चाहता है कि वह लंबे समय के ट्रेंड की दिशा में ट्रेडिंग कर रहा है तो वह 50 पीरियड ईएमए को देखने का विचार कर सकता है और सिर्फ तभी ट्रेड करें जब आपकी एंट्री की दिशा ,दिशा से मेल खाए। आपको कम से कम मिलेंगे लेकिन आप खुद को कई गलत सिग्नल से बचा पाएंगे। गुड लक!