मैं एक टेक्निकल एनालिस्ट के लिए डाइवर्जेंसेस और क़ॉन्वर्जेंसेस को एक बहुत महत्वपूर्ण टूल मानता हूँ। हालांकि, डाइवरजेंस अपने आप में एक इंडिकेटर नहीं है क्योंकि इसका कोई मैथेमैटिकल फॉर्मूला नहीं है इसे अक्सर प्राइज़ की दिशा में संभावित बदलाव का मुख्य इंडिकेटर कहा जाता है।

डाइवरजेंस उस मूवमेंट को संदर्भित करता है जब प्राइज़ और इंडिकेटर की प्रकृति विरोधी दिशाओं में चलने की होती है और क़ॉन्वर्जेंस  उस मूवमेंट को संदर्भित करता है जब प्राइज़ और इंडिकेटर एक ही दिशा में चलते हैं।

चार्टिस्ट के समझने के लिए 6 अलग-अलग सिनेरियो होते हैं जो महत्वपूर्ण होते हैं। मैंने इनको समझाने के लिए स्टोक़ैस्टिक आरएसआई का उपयोग किया है। हालांकि, ये सभी ऑसिलेटिंग इंडिकेटर्स पर लागू किए जा सकते हैं।

यह हैं:

1.   पॉज़िटिव डाइवरजेंस

2.   पॉज़िटिव क़ॉन्वर्जेंसेस

3.   पॉज़िटिव हिडन डाइवरजेंस

4.   नेगेटिव डाइवरजेंस

5.   नेगेटिव क़ॉन्वर्जेंसेस

6.   नेगेटिव हिडन डाइवरजेंस

1.  पॉज़िटिव डाइवरजेंस (फिगर 1) पॉज़िटिव डाइवरजेंस तब दिखता है जब मूल्य नीचे जाता है और एक नया निचला तल बनाता है जबकि स्टोक आरएसआई एक उच्च तल बनाता है।यह नीचे से ऊपर की ओर बढ़ने की प्रवृत्ति की पुष्टि करता है। अधिकांश लाभदायक पॉजिटिव डाइ वर्जेंस 5 वेव के डाउन मूव के बाद दिखाई देते हैं।

2.   पॉज़िटिव क़ॉन्वर्जेंसेस (फिगर 2) एक पॉज़िटिव क़ॉन्वर्जेंट चाल तब होती है जब दोनों प्राइज़ और इंडिकेटर ऊपर चढ़ते हैं और ऊंचे लॉज या ऊंचे हाइज़ बनाते हैं। एक पॉज़िटिव क़ॉन्वर्जेंस अधिकतर पिछले अपट्रेन्ड की निरंतरता को एक ऊंचे लो के साथ खत्म होने वाले सुधार के फेज के बाद दर्शाता है।

3.   पॉज़िटिव हिडन डाइवरजेंस (फिगर 3) पॉज़िटिव हिडन डाइवरजेंस तब दिखता है जब प्राइज़ ऊपर बढ़ता है और एक नया लो बनाता है जबकि स्टोक आरएसआई एक नीचा बॉटम दिखाता है। यह पैटर्न अधिकतर दर्शाता है कि प्राइज़ की गिरावट पिछली ऊपर की चाल का सुधार था। सुधार के बाद प्राइज़ का अप ट्रेंड जारी रहता है।

4.   नेगेटिव डाइवरजेंस (फिगर 4) नेगेटिव डाइवरजेंस तब होता है जब प्राइज़ बढ़ता है और एक ऊंचा टॉप बनाता है जबकि,स्टोकआरएसआई एक नीचा टॉप बनाता है। यह एक अप मूव से डाउन मूव के ट्रेंड रिवर्सल की पुष्टि करता है। अधिकांश लाभदायक नकारात्मक डाइवर्जन 5 वेव अप की चाल के बाद दिखाई देते हैं।

5.   नेगेटिव क़ॉन्वर्जेंस (फिगर 5) नेगेटिव क़ॉन्वर्जेंस तब बनाता है जब प्राइज़ और इंडिकेटर नीचे की ओर बढ़ते हैं और नीचे लॉज या नीचे हाइज़ बनाते हैं। एक  नेगेटिव क़ॉन्वर्जेंट मूव एक सुधार फेज के ऊंचे हाई के साथ खत्म होने पर जारी डाउन ट्रेंड की निरंतरता की घोषणा करता है।

6.   नेगेटिव हिडन डाइवरजेंस (फिगर 6) नेगेटिव हिडन डाइवरजेंस प्राइज़ के नीचे ट्रेंड करते हुए प्राइज़ में नीचे हाइज़ बनाना और स्टोक आरएसआई के ऊंचा हाई बनाने पर दिखता है। यह पैटर्न अधिकतर यह दिखाता है कि प्राइज़ में पिछली तेज़ी केवल पिछली गिरावट का सुधार थी और प्राइज़ सुधार के बाद डाउन ट्रेंड जारी रखती है।

कंक्लूजन

डाइवर्जेंस और कन्वर्जेंस भविष्य की प्राइज़ एक्शन की संभावित दिशा देता है लेकिन एंट्री लेवल नहीं देता। इसलिए उन्हें प्रभावी बनाने के लिए, सपोर्ट, रेजिस्टेंस, ट्रेंडलाइन्स , कैंडलस्टिक पैटर्न आदि जैसी अन्य ट्रेडिंग तकनीकों के साथ उपयोग करना चाहिए।